भारत-न्यूजीलैंड के बीच तीसरे वनडे मैच को लेकर हाईकोर्ट का बड़ा फैसला….

admin
admin
3 Min Read

भारत और न्यूजीलैंड के बीच वनडे सीरीज का दूसरा मैच 21 जनवरी को खेला जाना है, वहीं तीसरा मैच इंदौर में 24 जनवरी को होगा. इससे पहले मैच के टिकटों की बिक्री में कालाबाजारी को लेकर विवाद खड़ा हो गया था. ऐसे में इस मामले में हाईकोर्ट में याचिका लगाई गई और सुनवाई भी हुई. इस पूरे मामले को देखते हुए माना जा रहा था कि इस मैच के लिए वेन्यू में बदलाव भी किया जा सकता है. इस पूरे विवाद को लेकर अब मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने अपना फैसला सुना दिया है.

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image

उच्च न्यायालय ने सुनाया ये फैसला

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image

भारत और न्यूजीलैंड के बीच इंदौर में 24 जनवरी को खेले जाने वाले वनडे मैच के टिकटों की ऑनलाइन बिक्री में गड़बड़ी को लेकर दायर जनहित याचिका मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय ने खारिज कर दी है. उच्च न्यायालय की इंदौर पीठ ने अदालत का वक्त बर्बाद करने के कारण याचिकाकर्ता पर 25,000 रुपये का जुर्माना भी ठोका है. उच्च न्यायालय ने कहा है कि इस व्यक्ति ने आरोपों की प्रामाणिकता जांचे बगैर केवल लोकप्रियता हासिल करने के लिए याचिका दायर की.

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image

कांग्रेस नेता राकेश सिंह यादव ने भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI), मध्यप्रदेश क्रिकेट संघ (MPCA) और राज्य सरकार के खिलाफ दायर जनहित याचिका में आरोप लगाया था कि आगामी भारत-न्यूजीलैंड मैच के टिकटों की ऑनलाइन बिक्री में गड़बड़ी और इनकी कालाबाजारी की गई, जिससे सरकारी खजाने को कर राजस्व का नुकसान भी पहुंचा. एमपीसीए की ओर से इन आरोपों को खारिज करते हुए उच्च न्यायालय में दलील दी गई कि यह याचिका केवल एक सांध्य दैनिक में छपी खबर के आधार पर दायर की गई है.

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image

अदालत ने अपने फैसले में कही ये बात

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image

उच्च न्यायालय की इंदौर पीठ के न्यायमूर्ति एसए धर्माधिकारी और न्यायमूर्ति प्रकाशचंद्र गुप्ता ने दोनों पक्षों की दलीलों पर गौर करते हुए यह याचिका 18 जनवरी को खारिज कर दी. अदालत ने अपने फैसले में कहा, ‘याचिकाकर्ता ने प्रतिवादियों के खिलाफ लगाए गए आरोपों की प्रामाणिकता की पुष्टि किए बगैर जनहित याचिका दायर की है. उसने अपने आरोपों के समर्थन में कोई दस्तावेज भी पेश नहीं किए हैं. इस याचिका को केवल लोकप्रियता हासिल करने के उद्देश्य से दायर किया गया है.’

Share this Article