किरेन रिजिजू – केंद्र न्यायपालिका की गरिमा और स्वतंत्रता का करता है सम्मान..

admin
admin
2 Min Read

कॉलेजियम सिस्टम को लेकर केंद्र सरकार और न्यायपालिका के बीच बहस चल रही है। इसी बीच केंद्रीय कानून मंत्री किरेन रिजिजू ने गुरुवार को कहा कि जजों की नियुक्ति में मेमोरेंडम ऑफ प्रोसीजर (MoP) के पुनर्गठन के लिए सुप्रीम कोर्ट के 2016 के आदेश का पालन करना केंद्र का कर्तव्य है। साथ ही रिजिजू ने कहा कि केंद्र न्यायपालिका का सम्मान करता है क्योंकि फलते-फूलते लोकतंत्र के लिए न्यायपालिका की स्वतंत्रता अति आवश्यक है।रिजिजू ने एकीकृत अदालत परिसर में पुडुचेरी के वकीलों के लिए 13 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाले भवन की आधारशिला रखने के बाद यह बात कही।

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image

उन्होंने कहा कि मैंने प्रधान न्यायाधीश को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जजों की नियुक्ति के लिए एक व्यवस्थित कॉलेजियम सिस्टम को लेकर लिखा है और यह शीर्ष अदालत की संविधान पीठ द्वारा बहुत अच्छी तरह से निर्देशित है।रिजिजू ने कहा कि साल 2016 में कॉलेजियम और सरकार को सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के जजों की नियुक्ति के लिए मेमोरेंडम ऑफ प्रोसीजर को पुनर्गठित करने के लिए बहुत स्पष्ट अवलोकन और निर्देश दिए थे।

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image

हालांकि इसमें देरी हुई। लेकिन सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ के आदेश को आगे बढ़ाना मेरा कर्तव्य है।उन्होंने कहा कि जब तक कॉलेजियम सिस्टम है और कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं है साथ ही संसद नई व्यवस्था नहीं बनाती है तब तक हम मौजूदा प्रणाली से आगे बढ़ेंगे। कानून और न्याय मंत्री ने कहा कि न्यायपालिका के लिए उनका संदेश है कि हम न्यायपालिका की गरिमा और स्वतंत्रता का हमेशा सम्मान करेंगे।

Ro No. 12242/26
Ad imageAd image
Share this Article